"ॐ तत्पुरुषाय विद्ध्महे महादेवाय धिमाही तन्नो रूद्र: प्रचोदयात!!!"

गौत्र संरचना

रावल ब्रह्मण समाज की गौत्र संरचना 

हमारे समाज में कुल २२ गौत्र का विवरण मिलता हैं  
१. वडकिया
गौत्र : गौतमी , अटक : ठाकर , वेद : ऋग्वेद
शाखा : अस्वला , पखर : ०२
कुलदेवी : माँ आशापुरी
विवरण : लम्बोदर गणपति

२. लुरकिया
गौत्र : कश्यप , अटक : पंड्या , वेद : यजुर्वेद 
शाखा : माधवी , पखर : 03
कुलदेवी : माँ वाराही 
विवरण : बहुरूप गणपति

३. टिलुआ
गौत्र : कपिल  ,अटक : जानि, वेद : यजुर्वेद 
शाखा : माधवी , पखर : 03
कुलदेवी : माँ सरस्वती  
विवरण : महाकाय गणपति

४.अबोटी
गौत्र : भारद्वाज , अटक : दवे , वेद : यजुर्वेद 
शाखा : माधवी , पखर : 03
कुलदेवी : माँ खेमज  
विवरण : लम्बोदर गणपति

५. गोमट राजगर सामाणी
गौत्र : वशिष्ट , अटक : त्रिवेदी , वेद : सामवेद 
शाखा : कौतुमी , पखर : 03
कुलदेवी : माँ सरस्वती  
विवरण : वक्रतुंड

६. गेवाल
गौत्र : भार्गव , अटक : दवे  , वेद : ऋग्वेद  
शाखा : अस्वला , पखर : 06
कुलदेवी : माँ चामुंडा
विवरण : वक्रतुंड

७. मेमर
गौत्र : शांडिल्य , अटक : ओझा  , वेद : ऋग्वेद  
शाखा : माधवी , पखर : 03
कुलदेवी : माँ महालक्ष्मी
विवरण : गजकर्ण

८. मल्लेरिया
गौत्र : पारासर , अटक : व्यास   , वेद : यजुर्वेद  
शाखा : माधवी  , पखर : 03
कुलदेवी : माँ रोहिणी
विवरण : बहुरूप

९. मेकालिया और सरवा ( मगरी )
गौत्र : कौशिक  , अटक : पंड्या  , वेद : ऋग्वेद  
शाखा : अस्वला , पखर : 03
कुलदेवी : माँ विघ्नेश्वरी
विवरण : महोदर

१०. पुष्करणा
गौत्र : मरीचि  , अटक : पंड्या  , वेद : यजुर्वेद  
शाखा : माधवी  , पखर : 03
कुलदेवी : माँ नव दुर्गा
विवरण : विघ्नकर्ता

११ . देवक्षेत्रिया
गौत्र : चौहान , अटक : जानि , वेद : यजुर्वेद  
शाखा : कौतुमी , पखर : 03
कुलदेवी : माँ सिद्धिदात्री 
विवरण : एकदंत

१२. अम्बालिया
गौत्र : उपमन्यु  , अटक : उपाध्याय  , वेद : ऋग्वेद  
शाखा : अस्वला , पखर : 03
कुलदेवी : माँ क्षेमकरी
विवरण : विघ्न विनायक 

१३. नंदूआना 
गौत्र : गर्ग  , अटक : जानि  , वेद : यजुर्वेद  
शाखा : माधवी  , पखर : 03
कुलदेवी : माँ वांकल
विवरण : महोदर

१४. गोमट (मगरीपाड़ा ) कनेरिया (उत्थमन )
गौत्र : हरितस  , अटक : त्रिवेदी , वेद : यजुर्वेद  
शाखा : माधवी  , पखर : 03
कुलदेवी : माँ महाकाली
विवरण : प्रसन्नवदन

१५. केवलिया
गौत्र : आंगिरस  , अटक : जोशी , वेद : यजुर्वेद  
शाखा : माधवी  , पखर : 03
कुलदेवी : माँ मातंगी 
विवरण : महोदर

१६. ओदेचा
गौत्र : कर्दम  , अटक : दवे , वेद : यजुर्वेद  
शाखा : माधवी  , पखर : 03
कुलदेवी : माँ महाकाली 
विवरण : गजानंद

१७. श्री गौड़
गौत्र : अत्रेय   , अटक :उपाध्याय , वेद : यजुर्वेद  
शाखा : माधवी  , पखर : 03
कुलदेवी : माँ लक्ष्मी  
विवरण : महोदर

१८. रोडवाल
गौत्र : कृष्णत्रेय  , अटक :दवे , वेद : यजुर्वेद  
शाखा : माधवी  , पखर : 03
कुलदेवी : माँ पिपलासा  
विवरण : बहुरूप

१९. पालीवाल
गौत्र : उद्दालक , अटक :जानि , वेद : यजुर्वेद  
शाखा : माधवी  , पखर : 03
कुलदेवी : माँ उमा   
विवरण : महोदर

२०. जोशी (जाणा )
गौत्र : वच्छस , अटक :जोशी , वेद : यजुर्वेद  
शाखा : माधवी  , पखर : 06
कुलदेवी : माँ भद्रकाली    
विवरण : वरदायक 

२१. जोशी (चामुंडेरी ) (हरमतिया ) और पुजारा
गौत्र : वच्छस , अटक :जोशी , वेद : यजुर्वेद  
शाखा : माधवी  , पखर : 06
कुलदेवी : माँ चामुंडा     
विवरण : वरदायक 

२२. गुर्जर गौड़
गौत्र : अत्रेय   , अटक :उपाध्याय , वेद : यजुर्वेद  
शाखा : माधवी  , पखर : 03
कुलदेवी : माँ चामुंडा 
विवरण : महोदर



!! जय महादेव !!
 

Comment Form is loading comments...
 

Follow by Email

Total Pageviews